• September 22, 2022

गहलोत अध्यक्ष बने तो CM की कुर्सी छाेड़ेंगे, इस नेता पर चल सकते हैं दांव; नहीं जमने देंगे पायलट के पांव!

गहलोत अध्यक्ष बने तो CM की कुर्सी छाेड़ेंगे, इस नेता पर चल सकते हैं दांव; नहीं जमने देंगे पायलट के पांव!

इंटरनेट डेस्क। कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव को लेकर सबसे ज्यादा हलचल जिस राज्य में है, वह है राजस्थान। इसकी वजह यह है कि अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए चुनाव में उतरने जा रहे हैं, लेकिन वह राजस्थान के सीएम की भूमिका को लेकर पसोपेश में हैं। उन्होंने कहा है कि अध्यक्ष का पद एक व्यक्ति-एक पद के दायरे में नहीं आता, लेकिन इतिहास में कोई कांग्रेस अध्यक्ष मुख्यमंत्री नहीं रहा, इसलिए फैसला करना पड़ेगा।

अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने एक नेशनल टीवी चैनल से बातचीत में पद छोड़ने के संकेत दिए हैं। अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कहा, ‘राहुल गांधी नहीं माने तो फार्म भरना होगा। मेरे बारे में भावना बन गई है इसलिए उसका सम्मान करते हुए मैं फॉर्म भरूंगा। कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि अशोक गहलोत ने बुधवार को सोनिया गांधी से मुलाकात के दौरान भी सीएम पद को लेकर अपनी चिंताओं को रखा है। अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कहा है कि वह चाहते हैं कि या तो उन्हें फरवरी तक अगला बजट पेश करने तक सीएम रहने दिया जाए। अन्यथा उनके ही किसी भरोसेमंद नेता को सीएम की कुर्सी सौंपी जाए। वह किसी भी कीमत पर अपने चिर प्रतिद्वंद्वी सचिन पायलट (Sachin Pilot) को मुख्यमंत्री की कुर्सी पर नहीं देखना चाहते।

यही वजह है कि अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने बुधवार सुबह कहा था कि मैं पार्टी के लिए एक, दो या तीन पद भी संभाल सकता हूं और कुछ भी छोड़ सकता हूं। एक, दो या तीन पद संभालने वाली उनकी टिप्पणी को सीएम पद पर बने रहने की इच्छा से भी जोड़ा जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक इस बात पर भी विचार चल रहा है कि अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) को राष्ट्रीय अध्यक्ष की बजाय कार्यकारी अध्यक्ष का जिम्मा दिया जाए और वह राजस्थान के सीएम भी बने रहें। ऐसा होने पर अशोक गहलोत की मुराद पूरी हो सकती है, लेकिन शायद हाईकमान ऐसा नहीं चाहता है। इसलिए अशोक गहलोत ने अपनी जगह पर सीपी जोशी का नाम सुझाया है। पायलट के नाम पर ऐतराज होने के सवाल पर गहलोत ने कहा- ‘मैं किसी के नाम की न चर्चा करता हूं और न कर रहा हूं। हमें यह देखना है कि कौन आए, जिससे मैसेज जाए कि पार्टी एकजुट है और हम किसी भी कीमत पर सरकार रिपीट करें।

 96 total views,  2 views today

Spread the love