• November 23, 2022

रूस के मिसाइल हमलों से बेहाल हुआ यूक्रेन, -20 डिग्री तापमान में घर छोड़ने को मजबूर लोग

रूस के मिसाइल हमलों से बेहाल हुआ यूक्रेन, -20 डिग्री तापमान में घर छोड़ने को मजबूर लोग

इंटरनेट डेस्क। रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध को नौ महीने हो चुके हैं। रूस का यूक्रेन के शहरों पर मिसाइल हमला जारी है। इस दौरान एनर्जी सेंटर को निशाना बनाया गया है। इस कारण पूरा यूक्रेन गंभीर बिजली संकट का समाना करना पड़ रहा है। इस बीच कड़ाके के ठंड भी शुरू हो चुकी है। कीव में एक प्रेस कांफ्रेंस में क्लयूग ने यह भी बताया कि फिलहाल कीव में एक करोड़ लोग बिना बिजली के रहने को मजबूर हैं, जबकि 30 लाख लोग ठंड से बचने के लिए अपना घर छोड़ सकते हैं। यूक्रेन में ठंड जानलेवा हो सकती है। एक अनुमान के मुताबिक इस साल वहां के कई इलाकों का तापमान -20 डिग्री से भी कम जा सकता है। इससे बिना बिजली के निपटना नामुमकिन है।

इस बीच यूक्रेन के ऊर्जा प्रमुखों में से एक के अनुसार, देश में ब्लैकआउट मार्च महीने तक जारी रह सकता है। रूस के पावर ग्रिड पर कई हफ्तों के लगातार हमले के बाद यूक्रेनियन कड़ाके की ठंड का सामना कर रहे हैं। यू्क्रेन के निजी ऊर्जा प्रदाता डेट्क यासनो के सीईओ सर्गेई कोवलेंको ने सोमवार देर रात एक फेसबुक पोस्ट में कहा कि कंपनी यूक्रेन के राज्य ग्रिड आपरेटर के निर्देशों के तहत राजधानी कीव और पूर्वी निप्रॉपेट्रोस क्षेत्र सहित उन क्षेत्रों में इमरजेंसी ब्लैकआउट फिर से शुरू करने जा रही है। कोवलेंको ने चेतावनी दी क‍ि हालांकि, अब कम ब्लैकआउट हैं। मैं चाहता हूं कि हर कोई यह समझे। सबसे अधिक संभावना है क‍ि यूक्रेन को कम से कम मार्च के अंत तक ब्लैकआउट के साथ रहना होगा। मुझे लगता है कि हमें विभिन्न विकल्पों के लिए तैयार रहने की जरूरत है, यहां तक ​​कि सबसे खराब विकल्‍पों के लिए भी।

उन्होंने यूक्रेनी निवासियों को संबोधित करते हुए कहा क‍ि ऐसे में लोग गर्म कपड़ों और कंबलों का स्टॉक करें। इस बारे में सोचें कि आपको लंबे समय तक बंद रहने में क्या मदद मिलेगी। रूस यूक्रेन के पावर ग्रिड और अन्य बुनियादी ढांचे को हफ्तों से हमले कर उड़ा रहा है। रूस द्वारा किए गए म‍िसाइल हमले ने यूक्रेन में बड़े पैमाने में ब्लैकआउट का कारण बना और लाखों लोगों को बिजली, गर्मी और पानी से वंचित कर दिया। सर्दियों के महीनों में यूक्रेन में तापमान शून्‍य डिग्री से नीचे चला जाता है। यूक्रेनी अधिकारियों ने दक्षिणी खेरसान और मायकोलाइव क्षेत्रों के हाल ही में मुक्त किए गए नागरिकों को इस डर से निकालना शुरू कर दिया है कि सर्दियों में जीवित रहना मुश्किल होगा।

 67 total views,  2 views today

Spread the love