Travel Tips: मेघालय में लेना चाहते हैं बाली घूमने का मजा तो इस छिपी हुई जगह पर जाने का करें प्लान !

Travel Tips: मेघालय में लेना चाहते हैं बाली घूमने का मजा तो इस छिपी हुई जगह पर जाने का करें प्लान !

बारिश के मौसम के दौरान मेघालय की खूबसूरती किसी स्वर्ग से कम नहीं लगती है। इस मौसम में वारी चोरा की चारों ओर की खूबसूरती देख आंखें खुली की खुली रह जाती है बाली को टक्कर देने वाला मेघालय ऊंचाइयों से गिरते हुए झरने धरती को चुनते हुए बादल तथा हरे-भरे जंगलों से घिरा हुआ पूर्वोत्तर भारत का एक राज्य है। आपको बता दें कि मेघालय की इस छुपी हुई जगह का दीदार करने के लिए बहुत ही कम लोग पहुंच पाते हैं क्योंकि यहां पर पहुंचना थोड़ा मुश्किल है अगर आप भी मेघालय में जाकर बाली घूमने का मजा लेना चाहते हैं तो आपको मेघालय के इस छुपी हुई जगह की ट्रिप का प्लान जरूर करना चाहिए। आइए जानते है इस जगह के बारे में –

* आपको बता दें कि मैं गाली में वारी चोरा एक नदी पर स्थित और पहाड़ों से गिरी हुई एक जगह है और ये जगह गारो हिल्स में मौजूद है। आपको बता दे की वारी चोरा का मतलब एक गहरी नदी है। ओर गारो हिल्स का संबंध गारो आदिवासियों से बताया गया है।

* बताया जाता है कि यहां पर रहने वाले आदिवासी समूह गारो का इतिहास बहुत ही पुराना है। और इस समूह का प्रकृति से एक गहरा संबंध बना हुआ है। गारो समूह खुद को चिक भी बुलाते है। ओर ये शिकार और प्लांट्स की मेडिकल नॉलेज के लिए भी जाने जाते है।

* प्राकृतिक सुंदरता की अपने आप में एक नई दुनिया बसाए हुए वारी चोरा गुवाहाटी और शिलांग से करीब 290 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और इस जगह पर पहुंचने के लिए कम से कम एक दिन लग जाता है। यहां पर जाते समय आपको गूगल मैप की बजाए लोकल रास्ते से पूछते हुए जाना बेहतर रहेगा।

* आपको बता दें कि यहां पर जाने के बाद इस जगह की खूबसूरती को निहारने का सबसे बढ़िया तरीका नदी में कराए जाने वाली बोटिंग है। यहां पर आने वाले यात्री कैंपिंग और ट्रैकिंग तथा फैमिली ट्रिप का लुफ्त उठाने के लिए यहां पर आते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वारी चोरा में घूमने के लिए सबसे बेस्ट समय नवंबर से फरवरी के बीच का होता है।

 134 total views,  2 views today

Spread the love