Vastu Tips: वास्तु शास्त्र के अनुसार ऑफिस में इस दिशा में बैठने से कारोबार और मुनाफे में होती है तेजी से तरक्की !

Vastu Tips: वास्तु शास्त्र के अनुसार ऑफिस में इस दिशा में बैठने से कारोबार और मुनाफे में होती है तेजी से तरक्की !

वास्तु शास्त्र का मानव जीवन में बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान होता है क्योंकि वास्तु शास्त्र में मानव जीवन में आने वाली हर छोटी से छोटी समस्या के समाधान के लिए कई नियम और उपाय बताए गए हैं इसके अलावा वास्तु शास्त्रों में मानव जीवन में किए जाने वाले हर कार्य को लेकर नियम बताए गए हैं। वास्तु शास्त्र में मानव के ऑफिस को लेकर भी कई नियम और उपाय बताए गए हैं आपने देखा होगा कि कहीं बार कंपनी के मालिक अपने कारोबार और मुनाफे में लाभ ना होने के कारण परेशान रहता है ऐसे में इसका कारण इसका कारण कंपनी में के मालिक के बैठने की दिशा भी हो सकती है। क्योंकि कई बार गलत दिशा में बैठने की वजह से कई तरह के वास्तु दोष उत्पन्न हो जाते हैं जिसकी वजह से आपको उचित मेहनत करने के बाद भी मेहनत के अनुसार फल नहीं मिल पाता है आइए इस लेख के माध्यम से जानते हैं ऑफिस में बैठने को लेकर बनाए गए नियमों के बारे में ताकि आपके बिजनेस और मुनाफे में तेजी से वृद्धि सके। आइए जानते है –

* वास्तु शास्त्र के अनुसार कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर का कमरा हमेशा दक्षिण या पश्चिम दिशा की ओर होना शुभ माना जाता है यदि आप का कमरा इस दिशा में नहीं है तो आपको अपना कमरा किसी दिशा में बनवा लेना चाहिए। इसके अलावा कमरे के अंदर बैठने की व्यवस्था कुछ इस तरह होनी चाहिए कि आपका मुंह पूर्व या उत्तर की ओर होना चाहिए। अगर आप अपने ऑफिस में वास्तु के इस नियम का पालन करते हैं तो निश्चित मानिए आपके बिजनेस और मुनाफे में तेजी से वृद्धि होने लगेगी जिसको देखकर हर कोई हैरान हो जाएगा।

* वास्तु शास्त्र के अनुसार बताया गया है कि अगर ऑफिस में वेटिंग रूम बनाना संभव नहीं हो सकता है तो मालिक और अधिकारियों के केबिन के बाहर आने वाले विजिटर के लिए आप कुर्सियां लगाते समय उनको हमेशा पूरब या उत्तर की दीवार के सहारे रखना चाहिए इस तरह से हराने वाले विजिटर का मुख पश्चिम या दक्षिण की तरफ रहेगा। वास्तु शास्त्र के अनुसार विजिटर के बैठने की दिशा में इस नियम का जरूर पालन करें इससे आपको अवश्य ही लाभ मिलेगा।

* वास्तु शास्त्र के अनुसार बताया गया है कि ऑफिस में कर्मचारियों को अधिकारियों के केबिन के पास पश्चिम और दक्षिण में उनके पदों के अनुसार बैठना चाहिए।

* वास्तु शास्त्र में बताया गया है कि यदि आप किसी दुकान का संचालन करते हैं तो दुकान में बिक्री का सामान हमेशा दक्षिण और पश्चिम और यव्य अर्थात पश्चिम और उत्तर के बीच में रखने से शुभ परिणाम मिलते है। इसके अलावा वास्तु के अनुसार बताया गया है कि पूर्व और उत्तर दिशा के मध्य अर्थात ईशान कोण तथा पूर्व और दक्षिण दिशा के बीच का स्थान आग्नेय और बीच के स्थान को खाली रखना शुभ माना जाता है।

 240 total views,  4 views today

Spread the love