Vastu Tips: वास्तु शास्त्र के अनुसार आपका घर का मुख्य द्वार भी बन सकता है अशांति का कारण, इन बातों का रखें ध्यान !

Vastu Tips: वास्तु शास्त्र के अनुसार आपका घर का मुख्य द्वार भी बन सकता है अशांति का कारण, इन बातों का रखें ध्यान !

मानव जीवन में वास्तु शास्त्र का बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान होता है क्योंकि वास्तु शास्त्र और मानव जीवन से जुड़ी हर छोटी से छोटी समस्या के समाधान के लिए कई नियम और उपाय बताए गए हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार बताया गया है कि घर का मुख्य द्वार आपके जीवन में खुशियां आने का रास्ता होता है ऐसा कहा जाता है कि मैन गेट अगर वास्तु के अनुसार बना हुआ है तो घर में रहने वाले लोगों को किसी तरह की समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है लेकिन अगर आपके घर का मुख्य द्वार ही गलत दिशा या गलत जगह पर बना हुआ है तो इसकी वजह से आपके घर में नकारात्मक ऊर्जा का संचार होने लगता है जिसकी वजह से घर में रहने वाले लोगों को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। वास्तु शास्त्रों में कहा गया है कि घर के मुख्य द्वार से ही घर में मां लक्ष्मी का वास होता है। इसलिए वास्तु शास्त्र में घर कि साफ-सफाई को लेकर कई नियम बताए गए हैं आइए इस लेख के माध्यम से जानते हैं वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के मुख्य द्वार को लेकर बताए गए नियमों के बारे में –

* वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का मुख्य दरवाजा बनवाने के लिए पूर्व, उत्तर पूर्व और पश्चिम दिशा सबसे शुभ दिशा मानी जाती है।

* वास्तु शास्त्र के अनुसार बताया गया है कि घर के मुख्य गेट को खोलने पर किसी तरह की आवाज नहीं आनी चाहिए क्योंकि मुख्य गेट से आने वाली आवाज आपके घर के लिए शुभ नहीं होती है वास्तु शास्त्र के अनुसार मुख्य गेट से आने वाली आवाज आपके घर में अचानक आने वाली परेशानियों का संकेत होती है।

* वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का मुख्य दरवाजा अन्य दरवाजों से आकार में बड़ा होना चाहिए जिससे आपके घर में भरपूर रोशनी आ सके और आपके घर में अंधेरा ना हो ऐसा होने से घर के लोगों का स्वास्थ्य अच्छा बना रहता है और आपके घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार भी होता है।

* वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का मेन गेट हमेशा बाहर खुलने वाला होना चाहिए ऐसा कहा जाता है कि अंदर खुलने वाला गेट घर के लिए शुभ नहीं माना जाता है।

* वास्तु नियमों के अनुसार अगर आप अपने घर के मुख्य द्वार पर पायदान नहीं रखते हैं तो आपके घर में नकारात्मक ऊर्जा का संचार बढ़ता है जिसकी वजह से आपके घर में कई वास्तु दोष और क्लेश उत्पन्न होते हैं।

* घर के मुख्य द्वार का रंग हरा नहीं होना चाहिए वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के मुख्य द्वार का रंग हल्का पीला, सफेद , बेज हो सकता है।

* वास्तु शास्त्र के अनुसार आपके घर के मुख्य द्वार के सामने किसी और के मुख्य द्वार का होना शुभ नहीं माना जाता है।

* वास्तु शास्त्र के अनुसार बताया गया है अगर आपके घर के मुख्य द्वार पर कोई व्यक्ति डोरबेल ना बजाकर दरवाजा खटखटा ता है तो इसकी वजह से आपके घर में अशांति आने लगती है।

 246 total views,  2 views today

Spread the love