• June 22, 2022

महाराष्ट्र से आई कांग्रेस के लिए राहत की खबर, पार्टी की बैठक में पहुंचे 42 विधायक

महाराष्ट्र से आई कांग्रेस के लिए राहत की खबर, पार्टी की बैठक में पहुंचे 42 विधायक

नई दिल्ली। महा विकास अघाड़ी (एमवीए) सरकार में राजनीतिक उथल-पुथल के बीच महाराष्ट्र कांग्रेस के विधायकों ने मंगलवार को मुंबई में विधायक दल के नेता बालासाहेब थोराट के आवास पर एक बैठक की। बैठक की अध्यक्षता महाराष्ट्र कांग्रेस प्रभारी एचके पाटिल ने की। बैठक में कांग्रेस के 44 में से 42 विधायक पहुंचे। इस बैठक में नाना पटोले और अशोक चव्हाण भी मौजूद थे। एकनाथ शिंदे के द्वारा बड़े पैमाने पर शिवसेना के विधायकों को तोड़ने के बाद कांग्रेस विधायकों को लेकर भी अटकलें लगाई जा रही थीं। आपको बता दें कि महाराष्ट्र सरकार में कैबिनेट मंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में शिवसेना के करीब 33 और सात निर्दलीय विधायक बुधवार को भाजपा शासित असम के गुवाहाटी के एक लग्जरी होटल में पहुंचे। इस बात की अटकलें लगाई जा रही हैं कि शिंदे अन्य विधायकों के साथ एमवीए सरकार को गिराने के लिए भाजपा में शामिल हो सकते हैं। विधायक अब शहर के रैडिसन ब्लू होटल में ठहरे हुए हैं।

शिंदे ने गुवाहाटी पहुंचने के बाद कहा, “यहां कुल 40 विधायक मौजूद हैं। हम बालासाहेब ठाकरे के हिंदुत्व को आगे बढ़ाएंगे। महाराष्ट्र में हाल के राजनीतिक घटनाक्रम के मद्देनजर कांग्रेस ने अपने वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को राज्य में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) पर्यवेक्षक के रूप में नियुक्त किया। कांग्रेस ने एक आधिकारिक बयान में कहा, “कांग्रेस अध्यक्ष ने राज्य में हालिया राजनीतिक घटनाक्रम के मद्देनजर तत्काल प्रभाव से कमलनाथ एआईसीसी पर्यवेक्षक की प्रतिनियुक्ति की है।दूसरी ओर जब राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार से एमवीए में संकट के बारे में पूछा गया तो उन्होंने उथल-पुथल को “शिवसेना का आंतरिक मामला” करार दिया। पवार ने यह भी कहा कि वह तीन दलीय सरकार के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने विपक्षी भाजपा के साथ किसी भी तरह के गठजोड़ से भी इनकार किया।

महाराष्ट्र विधान परिषद (एमएलसी) चुनावों में संदिग्ध क्रॉस-वोटिंग के बाद घटनाक्रम सामने आया। इसमें भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने एमवीए गठबंधन सरकार को एक बड़ा झटका दिया। एनसीपी और शिवसेना ने दो-दो सीटें जीतीं, जबकि कांग्रेस विधान परिषद की कुल 10 सीटों में से एक सीट पर कब्जा करने में सफल रही। एमएलसी चुनाव के बाद शिंदे शिवसेना के कुछ अन्य विधायकों के साथ सूरत के ली मेरिडियन होटल में ठहरे थे। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के करीबी सहयोगी मिलिंद नार्वेकर और रवींद्र फाटक वाले शिवसेना प्रतिनिधिमंडल ने भी सूरत में शिंदे और पार्टी के अन्य विधायकों से मुलाकात की थी। महाराष्ट्र भाजपा प्रमुख चंद्रकांत पाटिल ने हालांकि कहा कि अगर सिंधी की ओर से वैकल्पिक सरकार बनाने का प्रस्ताव आता है तो उनकी पार्टी निश्चित तौर पर इस पर विचार करेगी।इस बीच शिंदे ने राज्य में सरकार बनाने के लिए कांग्रेस और राकांपा से हाथ मिलाने के लिए शिवसेना पर परोक्ष रूप से कटाक्ष किया और ट्वीट किया, “हम बालासाहेब के कट्टर शिव सैनिक हैं … बालासाहेब ने हमें हिंदुत्व सिखाया है। हमने कभी नहीं किया और न ही करेंगे। बालासाहेब के विचारों और धर्मवीर आनंद दिघे साहब की शिक्षाओं के संबंध में सत्ता के लिए कभी धोखा नहीं देना चाहिए।” शिंदे ने अपने ट्विटर बायो से ‘शिवसेना’ को भी हटा दिया है।

 453 total views,  2 views today

Spread the love